सही बातें पढ़ने की आदत हो तो, सही काम करने की आदत अपने आप बन जाती है।

रविवार, 5 जुलाई 2020

रिलेशनशिप को कैसे मजबूत बनाये! : How to make the relationship stronger!:

जैसा कि हम सभी अपने रिश्तों को बहुत महत्व देते है। उन्हें संजोते है। उन्हें प्यार करते है ताकि जीवन मे जब भी कोई मुश्किल समय आये तो हम अपने आप को कभी अकेला न पाए। और वैसे भी रिश्ते तो मुश्किल वक़्त में ही मजबूत बन जाते है। रिलेशनशिप कई तरह के होते है। सभी रिश्तो को  मज़बूती से बंधे रखना बेहद जरुरी होता हैं। तो आइए जानते है हम अपने रिश्तो को कैसे मजबूत बनाये। 

lifebookin.blogpost.com

 

रिश्तो की अहमियत को समझे


जबतक हम अपने किसी रिश्ते की अहमियत नही समझते तबतक हम उसे निभाने में दिलचस्पी नही दिखा पाते हैं । सबसे पहले हमें उसे समझना होगा कि उन्होंने हमारे लिए क्या क्या किया है और क्या रिश्ता है हमारा।वो न होंगे तो जीवन की कल्पना कैसी होगी। मन मे हमेशा उनके किये बलिदानो के प्रति कृतज्ञता रखे। ऎसा करने से हमारे मन मे हमेशा उन रिश्तों के प्रति अहमियत बनी रहेगी और हमारे रिश्ते मजबूत बने रहेंगे। 


अपनी भावनाओं को व्यक्त करें


कभी कभी हम अपनी भावनाओं को व्यक्त न कर पाने के कारण रिश्तों  को कमजोर बना देते हैं। ऐसा नही होता कि हम अपने रिश्तों को प्यार नही करते या परवाह नही करते बस हम इनको एहसास नही करा पाते। जिंदगी के भागदौड़ में हम अपने आप को खोल नही पाते अपने जज्बातो को बाहर नही ला पाते । जिससे रिश्तो में गलतफहमियां बढ़ने लगती है। इसीलिए जब भी आप अपनो के साथ हो तो अपने भावनाओ को जताने का प्रयास करे। छोटे हो या बड़े सभी को प्यार का एहसास ही आपसे जोड़े रख सकता है। तो आप भी खुल के अपनो के साथ खुश रहे। उनसे बात करे,अपनी परेशानी,गम या और भी कोई तकलीफ हो तो उन्हें बताये।अपने खुशी और दुख में उन्हें शामिल करें व अवश्य ही आपसे जुड़े रहेंगे।और आप महसूस कर पाएंगे अपने हर रिलेशनशिप की मजबूती को।



अपने रिश्तों को वक्त देंना है जरूरी। 


                     lifeblogin.blogpost.com

आज हर कोई वक्त के साथ या यू कहे कि वक्त से आगे चलना चाहता है। जिससे हम भागते रहते है। कभी कुछ हासिल करने तो कभी अपने सपनो को पूरा करने के लिए।इन सब मे हम अपने रिश्तो को समय देना भूल जाते हैं या चाहकर भी वक्त नही दे पाते लेकिन रिश्तो को मजबूत बनाये रखने के लिए उन्हें समय देना है बेहद जरूरी। अब समय देना मतलब हरदम उनके पास बैठे रहना नही होता। हम दूर हो फिर भी अपनो से बात कर सकते है,देख सकते और उनके परेशानियाँ पूछ सकते। जैसे कोरोना महामारी ने हालात बनाये है वो बेहद ही दुखद है। ऐसे में अपनो से दूरिया बढ़ने की आशंका पैदा होती है। बहुत लोग दूर फंसे है या और किसी वजह से अपनो के पास नही है।फिर भी वे अपनो के करीब महसूस करते तो बस उनसे बात कर के। ओर ऐसे कई माध्यम है जैसे विडिओ कॉल,व्हाट्सप पर । जिनसे वो अपनो को वक्त देते हैं। ओर अपनो से जुड़े रहते है। तो हुआ न आसान ! तो आप भी कोई भी तरीका अपनाकर अपनो को थोड़ा समय देते रहिये। ये थोड़ा सा समय आपके बड़े से बड़े बुरे वक्त को अछे वक्त में बदलने की ताकत रखता है।और आपके रिश्तो को व मजबूत बनाता है।


नकारात्मकता और अहंकार से बचे



रिश्ते बहुत नाजूक होते है। उन्हें संजोये रखने ओर कामयाब बनाये रखना उतना ही कठिन है। नकारात्मकता और अहंकार ये दोनों जब रिश्तो में जगह बनाने लगते है तो वे कमजोर बनने लगते है। एक छोटीसी अनबन भी बहुत बड़ी नकारात्मकता पैदा करने के लिए काफी है। उसी तरह अहंकार मन मे आ जाये तो हम रिश्तो की अहमियत भूलने लगते है। ऐसे में रिश्तो में दरार आना शुरू हो जाता है।इसीलिए इन दोनों को हमे अपने कोमल रिश्तो पे हावी नही होने देना चाहिए। क्योकि इन दोनों को हावी होने में एक छोटी सी वजह ही काफी है। परिवर्तन जीवन का नियम है और समय हर पल इंसान को बदलते रहता है। ऐसे में हमे संयम बरतते हुए अपने रिश्तों को आगे बढ़ाना पड़ता है। याद रहे हमे अपने समय को बदलना है। न कि अपने रिश्तों को। इन दोनों के अलावा अन्य चीजे जो हमारे रिश्तों को कमजोर बनाये उनसे बचना चाहिए। ताकि वे मजबूत बने रहे।


रिश्तों को भरपूर जिये और प्यार से भर दे।


 

जितना ज्यादा आप अपने रिश्तों को समझेंगे उतना ज्यादा उसे आप प्यार से भर पाएंगे। रिश्तो को मजबूत बनाने में एकमात्र जरिया बनती है आपसी प्यार और लगाव। तो खूब प्यार से अपनो के साथ जी भर के जिये और जिंदगी का मजा लेते जाए। फिर ये जिंदगी दुबारा मिले ना मिले। फिर ये रिश्तो का बंधन हमसे बंधे ना बंधे। भरपूर जिंदगी जियें और खुश रहें -मस्त रहें। 


जीवन के किताब के पन्नो से.....….........

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Please do not enter any spam link in the comment box