सही बातें पढ़ने की आदत हो तो, सही काम करने की आदत अपने आप बन जाती है।

रविवार, 14 जून 2020

भावनात्मक बुद्धि से आप अपनी कार्य क्षमता कैसे बढ़ा सकते हैं।

आज के प्राइवेट नौकरी  में बहुत तरह के कंपटीशन और काम का बोझ होता है प्राइवेट कंपनियां जितना  सैलरी देती हैं उनका 10 गुना काम अपने कर्मचारी से करवाते हैं सभी कर्मचारियों में एक दूसरे से आगे निकलने का भी होड़ रहता है इस कम्पटीशन युग में अपने आपको अलग तरीके से कैसे काम करे और उसे और उसे आगे निकले हम में से सभी को लोकप्रिय होना पसंद है ऑफिस हो या समाज . आइये हम बताते हैं की भावनात्मक बुद्धि से आप अपनी कार्यक्षमता को कैसे बढ़ा सकते हैं जिसे अपने ऑफिस में आपका औरों से अलग पहचान हो और आपका लोकप्रियता बढ़े। 

भावनात्मक बुद्धि से आप अपनी कार्य क्षमता कैसे बढ़ा सकते हैं।

1. खुद को संभालें ( Handel Yourself)  -
जब आप कोई नई ऑफिस ज्वाइन करते हैं तो वहाँ  का वातावरण को पहले समझे, वहाँ  का कल्चर के बारे में जानकारी इकट्ठा करें। लोगों से धीरे धीरे मिलना शुरू करें।  कभी भी किसी ऐसी ऑफिस के आन्तरिक डिबेट में न पड़ें जिसका आपको कोई जानकारी ना हो। ऐसी स्थिति में  खुद को संभाले क्योंकि लोग आपके बारे में नकारात्मक विचार ना बना लें। काम करते समय भी सावधानियाँ बरतें काम में बार-बार गलती होने से आपका बॉस भी नाराज हो सकता है। शुरुआत में आपको संभल कर काम करना होगा हो सकता है अन्यथा कुछ लोग यूँ हि परेशान करेंगें या आपको ज्यादा काम करने को बोल सकता है खुद को संभालना एक कला है यह कला अगर आप सिख जायेंगे तो कंपनी में लम्बी छलांग लगायेंगे। 

2. लोगों का साथ प्राप्त करें ( Get along with the people)
लोगों की बातें समझने के इरादे से सुनो ना की समझाने के इरादे से उपयुक्त समय पर टिप्पणी करें और आपकी प्रतिक्रिया में उनके बयानों के संदर्भ सहित होना चाहिए जो एक नम्र भाव से कहा गया हो। इससे लोगों का साथ मिलना जुलना शुरू हो जायेगा। लोगों के साथ घुलना मिलना शुरू कीजिए शुरुआत में लोगों को लोगों को काम में सपोर्ट करना शुरू कीजिए बाद में धीरे-धीरे लोगों से सपोर्ट लेना सीखिए। जब भी मौका मिले किसी के काम की तारीफ करने का तो उसमे कभी भी पीछे ना रहें हमेशा एक उत्साहजनक शब्द कहकर उसका हौसला बढ़ाएं। हमेशा लोगों के पास जाकर कुछ सीखने का प्रयास करें जो आपके कंपनी के अच्छे ओहदे पर हों । वह आपको अपने कामयाबी के सीक्रेट बताएंगे, साथ ही साथ आपके आगे बढ़ने में मदद करने वाली सलाह भी देंगे।

भावनात्मक बुद्धि से आप अपनी कार्य क्षमता कैसे बढ़ा सकते हैं।
3. एक टीम में काम करें ( Work in a Team)
हमेशा इस बात का ध्यान रखें की एक सफल टीम वह है जिसमें सभी सदस्य नयापन, कौशल और ताकत से एकजुट होकर सबसे अलग प्रभावी तरीके से एक लक्ष्य प्राप्त करने में एक दुसरे को मदद करते हैं। आपकी सफलता टीम की सफलता पर निर्भर करता है। आपका टीम जितना अच्छा होगा उतना ही आपका सफलता ऊंचाइयों पर जाएगा और टीम बनाना भी आपके हाथ में है  टीम में सभी को एक साथ एकजुट रखें कभी किसी टीम सदस्य से मनमुटाव होने पर तुरंत उससे बात करें और उसका समाधान निकालें एक सकारात्मक दृष्टिकोण एक टीम को महान बनाता है टीम को एकजुट रखने में कभी कभार ऑफिस से बाहर गेट तोगेथेर करें जब  टीम आपके लिए काम करना शुरू कर दे तो  आप सफलता की बुलंदी छूने लगेंगे। 

भावनात्मक बुद्धि से आप अपनी कार्य क्षमता कैसे बढ़ा सकते हैं।


4. नेतृत्व क्षमता (Leadership)
अपनी नेतृत्व क्षमता बढ़ाए, जब भी ऐसी कोई मौका मिले अपने नेतृत्व क्षमता को दिखाने का, कभी पीछे ना मुड़े जैसे किसी ऐसे काम या प्रोजेक्ट जो मुश्किल में है या कंपनी के लिए लाभकारी नहीं है। उसे अपने हाथ में लेकर और सफल बनाकर नेतृत्व क्षमता का परिचय दें अपनी को ऑफिस के किसी भी तरह का प्रोग्राम या डिबेट में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें और हो सके तो उस प्रोग्राम का नेतृत्व करें और उसे सफल बनायें इससे आपको सभी लोगों की नजर में एक अलग पहचान मिलेगी। जिससे आपमें एक बड़ा परिवर्तन दिखने को मिलेगा जो अपने आप में सफलता की कहानी लिखेगा नेतृत्व क्षमता का मतलब है किसी भी समस्या का समाधान निकलना या किसी को बेझिझक सहायता करना "जितना आपका नेतृत्व क्षमता बढेगा उतना ही आप कंपनी में आगे बढ़ेंगे". 

5.  रचनात्मक प्रतिकिर्या  (Creative Response ) –
जब भी आपके बॉस या साथ में काम करने वाला किसी व्यक्ति आपको कुछ काम को करने के लिए सोंपे या कोई टीम का सदस्य आपसे कोई सवाल पूछे तो उसे रचनात्मक प्रतिक्रिया में काम को कर कर या जबाब दें। कई संभावनाओं के बारे में सोच कर और मंथन कर उसे नवाचार (Innovation) तरीके से कर के दें । इससे बॉस के नजर में एक अलग पहचान बनायेंगे और टीम सदस्य भी आपका आदर करेंगे। रचनात्मक प्रतिक्रिया सिर्फ कामों में नहीं दिखाना चाहिए इसे आम बातचीत के संदर्भ में भी अपने आप को स्थापित करना चाहिए जब किसी ऐसे मौखिक सवाल का उत्तर देना हो तो बहुत ही सोच समझ कर रचनात्मक रूप में उस जवाब को दें। जिससे सामने वाला व्यक्ति संतुष्ट हो और आपके नेतृत्व क्षमता को सराहे  रचनात्मक प्रतिक्रिया एक तरह का लॉजिक फ्रेमवर्क की तरह काम करता है जब हम किसी काम को करते हैं या उसी का प्रतिउत्तर देते हैं उसमें आपका लॉजिक फ्रेमवर्क होना चाहिए यह पहचान बनाने का नायब तरीका है जो आपको ऑफिस में एक अलग पहचान दिलाएगी। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Please do not enter any spam link in the comment box