सही बातें पढ़ने की आदत हो तो, सही काम करने की आदत अपने आप बन जाती है।

गुरुवार, 25 जून 2020

नेल्सन मंडेला अन्तराष्ट्रीय दिवस 2020 (Nelson Mandela International Day) : महत्त्व एवं विशेषतायें I

अफ्रीका में गाँधी के नाम से मशहूर और अन्य देशों में अफ्रीकन गाँधी के नाम से विख्यात नेल्सन मंडेला के जन्म दिवस के यादगार के रूप में मनाया जाता है वे दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति थे। नेल्सन मंडेला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस मनाने का प्रस्ताव और पहल संयुक्त राष्ट्र के तरफ से हुआ था इसका महत्त्व यह है की पुरे विश्व में नेल्सन मंडेला का आदर्श जीवनी,उनके जन लोगों के लिए आदर्श कामों को और उनके प्रयासों को विश्व के कोने कोने तक पहुँचाया जाये और इस अफ्रीकन गाँधी विचारों को प्रतिवर्ष याद किया जाये जिसे आने वाला पीढ़ी इनके दिखाए मार्ग पर चलें और इनका अनुसरन करें।                         Life Book

 नेल्सन मंडेला अन्तराष्ट्रीय दिवस का शुरुआत कब हुआ ?
 इसका शुरुआत 18 जुलाई, 2010 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा हुआ इस वर्ष नेल्सन मंडेला अपना 92वॉ जन्म दिवस मना रहे थे इस शुभ दिन को संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष अली ट्रेकी ने अपनी घोषणा में बताया की 18 जुलाई को प्रतिवर्ष नेल्सन मंडेला अन्तराष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जायेगा, उन्होंने यह भी बताया की यह निर्णय एक ऐसे महान शक्सियत को सम्मानित करने के लिये लिया गया जिसने आम लोगों की भलाई के लिये काम किया है बल्कि अपना पूरा जीवन जन मानस के लिए समर्पित किया है और अपितु उसकी कीमत भी चुकायी है। इनके इसी जन्म दिवस के उपरांत बोलते हुए  संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने कहा था की - "मंडेला संयुक्त राष्ट्र में उच्च आदर्शों के प्रतीक हैं। मंडेला को यह सम्मान शान्ति स्थापना, रंगभेद उन्मूलन, मानवाधिकारों की रक्षा और लैंगिक समानता की स्थापना के लिये किये गये उनके सतत प्रयासों के लिये दिया जा रहा है।"नेल्सन मंडेला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस प्रति वर्ष 18 जुलाई को संयुक्त राष्ट्र द्वारा शान्ति के लिये नोबल पुरस्कार विजेता पूर्व दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला के जन्म दिवस की यादगार के रूप में मनाया जायेगा।
Life Book

नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों महत्वपूर्ण है ?

नेल्सन मंडेला एक कान्तिकारी एवं लोकप्रिय नेता थे - दक्षिण अफ्रीका के प्रथम अश्वेत भूतपूर्व राष्ट्रपति बने थे। राष्ट्रपति बनने से पूर्व वे दक्षिण अफ्रीका में सदियों से चल रहे रंगभेद का विरोध करने वाले अफ्रीकी नेशनल कांग्रेस और इसके सशस्त्र गुट उमखोंतो वे सिजवे के अध्यक्ष पद पर रहकर काम करते रहें। रंगभेद विरोधी संघर्ष के कारण उन्होंने 27 वर्ष रॉबेन द्वीप के कारागार में बिताये जहाँ उन्हें कोयला खनिक का काम करना पड़ा था। 1990 में श्वेत सरकार से हुए एक समझौते के बाद उन्होंने नये दक्षिण अफ्रीका का निर्माण किया। वे दक्षिण अफ्रीका एवं समूचे विश्व में रंगभेद का विरोध करने के प्रतीक बन गये। उन्होंने 1993 में नोबेल शांति पुरस्कार जीता। नवम्बर 2009 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने रंगभेद विरोधी संघर्ष में उनके योगदान के सम्मान में उनके जन्मदिन के उपलक्ष्य में 18 जुलाई को पहले 'मंडेला दिवस' घोषित किया जिसे आगे चलकर राष्ट्रसंघ ने उनके जन्म दिन को नेल्सन मंडेला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया।


नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस 18 जुलाई 2020 का क्या विषय है? 

इस साल नेल्सन मंडेला फाउंडेशन और हैबिटेट फॉर ह्यूमैनिटी (Habitat for Humanity)  अन्तराष्ट्रीय संस्था ने एक साथ आकर 18 जुलाई 2020 को मंडेला दिवस को विशेष रूप से मानाने का फैसला किया है। दोनों संस्था ने मिलकर दक्षिण अफ्रीका के गरीब एवं असहाय लोगों और कम आय वाले परिवारों के लिए घर बनाने का संकल्प लिया है जो नेल्सन मंडेला के सपने को दक्षिण अफ्रीका के निर्माण में मदद कर उनके सपने पूरा करेगा।

इस दिन विश्व के अधिकांश देशों में नेल्सन मंडेला के मूल्यों और मानवता की सेवा के लिए तरह-तरह के समारोह का आयोजन कर मनाया जायेगा। नेल्सन मंडेला के जीवन संघर्ष समाधान; नस्लीय संबंध; मानव अधिकारों का प्रचार और संरक्षण; सुलह; लैंगिक समानता और बच्चों और अन्य कमजोर समूहों के अधिकार; गरीबी के खिलाफ लड़ाई; सामाजिक न्याय का विचार को याद कर किया जायेगा। यह दिवस अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोकतंत्र के लिए संघर्ष और दुनिया भर में शांति की संस्कृति को बढ़ावा देने में उनके योगदान को भी याद कर उनके मार्ग पर चलने को प्रेरणा लेकर मनाया जाता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any spam link in the comment box